Rooftop Gardening (Pic: kosovamanagement)

कौन नहीं चाहता है कि उसका घर, उसका टेरेस या फिर उसकी बालकनी हरी भरी रहे। इतना ही नहीं, जो कोई भी देखे वह पौधों को देखकर सम्मोहित (Greenery for Self Calm) हो जाए। अगर इसकी बात हम छोड़ भी दें, तो खुद की आंखों को जितना सुकून ग्रीनरी से मिलता है, वैसा आनंद शायद ही किसी दूसरी चीज में मिले।

पर मुश्किल आती है। जब लोग खुद से पौधे लगाना शुरू करते हैं तो एक तो इसकी कॉस्टिंग बहुत ज्यादा होती चली जाती है। ऊपर से पौधों के सूखने और उनकी मेंटेनेंस की जवाबदेही भारी पड़ती है। लेकिन परेशानी की बात नहीं है। आज के समय में गार्डनिंग (Gardening) का कार्य किराए पर चलने लगा है। आइए नजर डालते हैं।

कई सारी स्टडीज में यह बात सामने आई है कि केवल घर में ही नहीं, बल्कि कार्यस्थल पर भी अगर पौधे (Plants) हों तो उससे आपको कंसंट्रेट करने में मदद मिलती है। ऐसी स्थिति में कई कंपनियों ने किराए पर गार्डनिंग (Gardening On Rent) का कार्य करना शुरू कर दिया है। 

आखिर घर हो अथवा ऑफिस, लोगों के पास समय नियमित रूप से कम होता चला जा रहा है। खासकर ऑफिसेज, कारपोरेट, मॉल, अस्पताल, होटल इत्यादि जगहों पर लोगों के पास गार्डनिंग (Gardening) जैसी चीजों को प्रबंधित करने का समय नहीं होता है।

इसी को ध्यान में रखते हुए प्लांट रेंटल सर्विसेज में कई कंपनियां एक्सपर्टीज (Gardening Expert) हासिल करती जा रही हैं।

Gardening Expert (Pic: kpcc)

इन्हें मैनेज करने के लिए ट्रेंड ह्यूमन रिसोर्सेज (Trend Human Resource) होते हैं जो पौधों की नियमित देखभाल करने के अलावा उनकी सफाई, दवाइयों का छिड़काव और दूसरे मेंटेनेंस के कार्य करते हैं। इसमें पौधों को कब धूप चाहिए, कब उन्हें छांव की जरूरत है, यह सारी बातें एक स्टडी के तहत यह कंपनियां दर्ज करती हैं। आप अपनी मर्जी से पौधों और फूलों (Plants & Flowers) की वैराइटी को चुन सकते हैं।

तो अब देर किस बात की है? अगर आपके पास गार्डनिंग का समय नहीं है तो किराए पर पौधे लेने और उसके मेंटेनेंस की जिम्मेदारी किसी अन्य को देने में संकोच क्यों? आखिर ग्रीनरी का कोई दूसरा विकल्प तो है नहीं!
क्या कहेंगे आप!

मिथिलेश कुमार सिंह


Web Title: Expert Gardening On Rent, Hindi Article