Farming Land Purchase Scheme (Pic: Shutterstock)
नई दिल्ली। अगर आप खेती करना चाहते हैं आपके पास कम जमीन है या जमीन नहीं है तो आप भारतीय स्टेट बैंक की एक स्कीम का फायदा उठा सकते हैं। भारतीय स्टेट बैंक खेती के लिए जमीन खरीदने के लिए लोन दे रहा है। आप इस स्कीम के तहत खेती के लिए जमीन खरीद सकते हैं और लोन की रकम अगले 7 से 10 साल में चुका सकते हैं।

एसबीआई की लैँड परचेज स्कीम का मकसद छोटे और सीमांत किसानों की जमीन खरीदने में मदद करना है। इसके अलावा खेती का करने वाले ऐसे लोग भी इस स्कीम के तहत लोन लेकर जमीन खरीद सकते हैं जिनके पास पहले से खेती के लिए जमीन नहीं है।

भारतीय स्टेट बैंक यानी एसबीआई की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के अनुसार लैंड परचेज स्कीम के तहत जमीन खरीदने के लिए ऐसे छोटे और सीमांत किसान आवेदन कर सकते हैं जिनके पास 5 एकड़ से कम असिंचित जमीन है या 2.5 एकड़ से कम सिंचित जमीन है।  इसके अलावा खेती का काम करने वाले भूमिहीन मजदूर भी इस इस स्कीम के तहत जमीन खरीदने के लिए लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं। आवेदन करने वाले व्यक्ति का कम से कम दो साल का लोन रिपेमेंट का रिकॉर्ड होना चाहिए। एसबीआई दूसरे बैंक के ग्राहकों के आवेदन पर भी विचार कर सकता है। हालांकि उनका किसी और बैंक पर लोन बकाया नहीं होना चाहिए।

एसबीआई लैंड परचेज स्कीम के तहत लोन के लिए आवेदन करने पर बैंक खरीदी जाने वाली जमीन की कीमत का आकलन करेगा और इसके बाद कुल कीमत का 85 फीसदी तक लोन दे सकता है। स्कीम के तहत लोन लेकर खरीदी जाने वाली जमीन बैंक के पास बंधक रहेगी। आवेदक लोन की रकम का रीपमेंट करने के बाद जमीन को बंधक मुक्त करा सकता है।

इस स्कीम के तहत लोन लेने पर आपको 1 से 2 साल का समय मिलता है। यह समय पूरा होने के बाद आपको छमाही किश्त के जरिए लोन का रीपेमेंट करना होता है। आवेदक 9 से 10 साल में लोन का रीपेमेंट कर सकता है। अगर खरीदी गई जमीन खेती के लिए तैयार है तो उसे लोन का रीपेमेंट शुरू करने के लिए 1 साल का समय मिलता है। और अगर जमीन को खेती करने के लिए तैयार करना है तो लोन का रीपेमेंट शुरू करने के लिए 2 साल का समय मिलता है।
Courtesy: Money Bhaskar