Home Loan Tips (Pic: Money Bhaskar)
 ऋण की समय सीमा कम रखें 

अक्सर लोग ईएमआई के बोझ से बचने के लिए लोन को जमा करने की समय सीमा को बढ़वा लेते हैं लेकिन यह सही नहीं है. क्योंकि जितना समय बढ़ेगा उतना ही ब्याज भी बढ़ेगा. आप ऐसे समझ सकते हैं कि अगर आप ने 20 साल के लिए 30 लाख रुपये का होमलोन लिया है तो इस पर लगभग 28,950 रुपये की ईएमआई बनती है. वहीँ अगर आपने 2,300 रुपये हर महीने ईएमआई में और जोड़ दिया तो आप होमलोन के झंझट से 15 साल के अंदर ही मुक्त हो सकते हैं. ध्यान रहे कि आपके प्रिंसिपल एमाउंट पर ही आपके ब्याज की गणना की जाती है,  इसलिए आप जितनी जल्दी मूलधन को कम करेंगे उतना ही कम ब्याज आपको देना पड़ेगा. 

सालाना जमा करें एक्स्टा पैसा

हर महीने ईएमआई भरने के बाद भी अगर आपने कुछ जमा राशि बचा ली है तो आप इसे साल में एक बार जमा कर अपने ब्याज को कम कर सकते हैं, क्योंकि जब आपकी प्रिंसिपल राशि कम होगी तो जाहिर तौर पर आपके द्वारा दिए जाने वाला मासिक ईएमआई भी कम होगा. ज्यादातर बैंक मिनिमम 10,000 रुपये से प्री-पेमेंट को जमा करने की मंजूरी देते हैं. वहीँ हाउसिंग लोन के आंशिक प्री-पेमेंट की यह सुविधा लगभग फ्री है. 

कम ब्याज वाले बैंक की तरफ शिफ्ट करें 

आपने चाहें जिस भी मज़बूरी में किसी भी बैंक से लोन लिया हो लेकिन आपको लगता है कि कोई और दूसरा बैंक कम ब्याज पर ऋण की सुविधा दे रहा है तो आप उस बैंक में लोन ट्रांसफर करा सकते हैं. बता दें कि मई 2016 के बाद से, सभी बैंक बेस रेट से MCLR यानि कि मार्जिनल कॉस्ट ऑफ फंड्स बेस्ड लेंडिंग रेट पर शिफ्ट हो गए हैं. हालाँकि इस प्रक्रिया में आपको थोड़ी परेशानी हो सकती है क्योंकि नए बैंक में लोन के लिए अप्लाई करने पर आपको उन सारी प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ेगा जो पहले लोन के लिए करनी पड़ी थी. इसके साथ ही नया बैंक यह भी सुनिश्चित करेगा कि पुराने बैंक में ईएमआई आपने सही समय से जमा किया है या नहीं.

Web Title & Keywords: How to reduce interest rates on home loan, Hindi Article